DPT Vaccine Injection in Hindi – डीपीटी का टिका

DPT Vaccine Injection in Hindi – डीपीटी का टिका

बच्चो में इस्तेमाल होने वाला DPT Vaccine से जुडी जानकारी Hindi में पढ़े | डीपीटी को injection के द्वारा टिका लगाया जाता है | जानिए इकस दवा का full form क्या होता है, इसके फायदे, उपयोग, side-effects, Schedule और dose से जुडी information के बारे में | DPT संयोजित टीकों की एक श्रृंखला है, जो की मनुष्यों को दिया जाता है, यह टीका मनुष्यों को तीन तरह के रोगों से बचाता है | इस टीका के component में Diphtheria, Pertussis और Tetanus toxoids होते है जो हमारे शरीर से उन कोशिकाओं को मरता है जो pertussis (wP) का कारण बनता है | Diphtheria, tetanus, and pertussis एक गंभीर बीमारियां हैं जो बैक्टीरिया की वजह से होते है | Diphtheria और pertussis एक संक्रामक रोग है जो एक व्यक्ति से दुसरे व्यक्ति पर संकर्मित होता है, टेटनस घावों या चोट के माध्यम से शरीर में प्रवेश करता है ।

DPT vaccine



DPT के टिके (Vaccine) के फायदे (Benefits)

अगर छोटे बच्चो को समय रहे D.P.T का टिका पड़ जाये तो यह दवा मुख्यतः 03 बड़े रोगों (diseases) से बचाता है, जो की इस प्रकार हैं:

  • Diphtheria
  • Tetanus
  • Pertussis

DPT टिके (Vaccine) के  खुराक (Dose) और Schedule

डिप्थीरिया, टेटनस, पर्टुसिस को एक साथ लिया जाता है, क्योकि यह टीका टेटनस और काली खांसी के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रदान करता है | आमतौर पर यह टीका दो महीने से सात वर्ष के उम्र के बच्चों को दिया जाता है, क्योकि बच्चों को इन रोग के कारण बचपन में गंभीर समस्या हो सकती है  |

  • शिशु के जन्म के ठीक 2 महीने के बाद डीपीटी टीका का पहला dose दिया जाना चाहिये |
  • जन्म के 4 महीने के होते ही इस टीका का दूसरा dose शिशु को देना चाहिए |
  • छठे महीने में डीपीटी टीका का तीसरा खुराक शिशु को देना चाहिए |
  • 15 से 18 month के बीच में इस टीका का चौथा dose दिया जाना चाहिए |
  • इस टीका का आखरी खुराक शिशु को 4 से 6 वर्ष के अंदर दिया जाना चाहिए |

इस टीके की तरह और भी कुछ महत्वपूर्ण टीके हैं जिसे मनुष्यों को दिया जाता है वुर वे टीके इस प्रकार हैं :-



DPT के टिके (Vaccine) से होने वाले दुष्प्रभाव (Side-Effects)

इस vaccine के कुछ common side-effects निम्नलिखित है, वैसे तो ये side-effects आमतौर पर देखने को नहीं मिलता है, यदि आपको निम्न में से कोई भी समस्या का आभास हो तो तुरंत अपने चिकित्सक से सम्पर्क करे |

  • बुखार : इस टीका को लगाने के बाद यदि किसी को बुखार आये और वह नहीं जा रहा हो तो ऐसे में डॉक्टर से मिले और उनसे परामर्श ले |
  • Vomiting : vaccine को लेने से यदि बच्चे को लगातार उल्टियां हो रही हो तो doctor से सलाह ले |
  • लालिमा : टीका लगाने के बाद यदि टीका लगे area पर लालिमा नहीं जा रही हो तो इसकी सुचना अपने चिकित्सक को दे कर उनसे advice ले |
  • weight loss: टीका लगाने पर यदि किसी patient का लगातार weight loss हो रहा हो तो उसे चिकित्सक से advice लेने की आवश्यकता है |

सावधानी / Precaution

  • बच्चों को मामूली बुखार होने पर भी टीका लगाया जा सकता है । लेकिन जो गंभीर रूप से बीमार हैं, उन्हें डीटीपी का वैक्सीन नहीं देना चाहिए ।
  • यदि किसी बच्चे को इस टीके के पहले खुराक के बाद उसे allergic reaction हो तो उन्हें आगे की dose नहीं देना चाहिए |
  • पहले खुराक के 7 दिनों के अंदर यदि किसी बच्चे को brain या nervous system की बीमारी होने लगे तो उस बच्चे को आगे का खुराक नहीं देना चाहिए |
  • यदि इस टीका को लगाने के बाद कोई emergency आन पड़ती है तो 911 पर call करके शीघ्र सहायता प्राप्त कर सकते है |

अधिक जानकारी 

इस vaccine से संबंधित किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने नजदीकी health department  या 1800-822-7967 toll free नंबर पर call लगा कर प्राप्त कर सकते है | इसके साथ ही आप https://www.cdc.gov/vaccines/hcp/vis/vis-statements/dtap.html से प्राप्त कर सकते हैं |

Leave a Comment