Opv Vaccine in Hindi – टिके का लाभ, डेट, फायदे, नुकसान

Opv vaccine को इंजेक्शन के द्वारा दिया जाता है, जिसे पोलियो के लिए उपयोग किया जाता है | जानिए इसे छोटे बच्चो को देने के लाभ, full form तरीका, डेट और फायदे से जुडी जानकारी – Opv injection uses और benefits, साथ ही इसके नुक्सान की information.    मनुष्यों को दी जाने वाली एक प्रकार का vaccine है, जो बच्चो को पोलियो के बीमारी से बचाता है और उन्हें स्वस्थ रखता है | पोलियो एक प्रकार का विषाणु जनित रोग है जो बच्चो के spinal cord को प्रभावित करता है और body parts को निष्क्रिय कर देता है | पोलियो टीका बाजार में दो प्रकार के होते है एक Inactivated Poliovirus Vaccine और दूसरा Oral Poliovirus Vaccine |

OPV Vaccine

OPV = Oral Poliovirus Vaccine (पोलियो)

ऊपर दिए गए शब्दों से आपको इसक full form तो अब मालूम चल गया होगा | Polio के खिलाफ सर्वप्रथम Jonas Salk के द्वारा 1955 में vaccine का विकास किया, आरम्भ में इसे vaccine का इस्तेमाल injection के रूप में किया जाता था | परन्तु Albert Sabin द्वारा बनाए गये दवा OPV को 1961 में व्यवहार में लाया गया | यह दवा विश्व स्वास्थ संगठन के महत्वपूर्ण दवा के सूचि में सम्मिलित है | पोलियो मुक्त पृथ्वी बनाने का के उद्देश्य से Oral Poliovirus Vaccine का इस्तेमाल किया जाता ही एवं हर 5 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चो को इस दवा को दिया जाता है, और हर वर्ष विश्व पोलियो दिवस 24 October को मनाया जाता है

OPV कितने प्रकार (types) के होते हैं 

मनुष्य शरीर को प्रभावित करने वाले बीमारी पोलियो मुखयतः पांच प्रकार के होते है |

  • Spinal Nerve Type – इस में जीवाणु शरीर के तंत्रिका तंत्र को प्रभावित करता है |
  • Brain Stem – इसके अंतर्गत जीवाणु मस्तिस्क के तीसरी, छठी और सातवी तंत्रिका को प्रभावित करती है जो हमारे ह्रदय को प्रभावित करता है |
  • Neuritic – पोलियो के इस type में मनुष्य के हाँथ और पैर में तेज दर्द होता है और श्वास नाली के मांसपेशियां निर्बल हो जाती है और मनुष्य की मृत्यु कुछ ही समय में हो जाती है |
  • Cerebellar – इस पोलियो रोग में मनुष्य को शिरशुल, भ्रमिं, वमन तथा वाणी संबंधी विकार उत्पन्न करता है |
  • Cerebral – इस बीमारी में मनुष्य को कई प्रकार के मानसिक विकार उत्पन्न होने की आशंका अत्यधिक रहती है |

इन vaccine के अलावा मनुष्यों को और भी कई तरह के टीकों  दिए जाते हैं , उनमे से कुछ टीकों  के नाम इस प्रकार हैं :-

खुराक (Dose) कब, कैसे और कौन डेट पर देना चाहिये

WHO के अनुसार OPV को 4 dose के हिसाब से बच्चो को जन्म के साथ इसका टिका देना चाहिये, जो की इस प्रकार है:

  • 1st Dose:  जन्म के बाद
  • 2nd Dose: 6 weeks
  • 3rd Dose: 10 weeks
  • 4th Dose: 14 weeks

पोलियो के लक्षण (Symptoms)

अगर आपके शरीर में निम्न में से कोई भी लक्षण का अनुभव हो तो यह आपके शरीर में poliovirus के होने का अंदेशा हो सकता है | ऐसे स्थिति में आप जल्द से जल्द अपने नजदीकी डॉक्टर का परामर्श करे |

  • पेट में दर्द का होना
  • पीठ में दर्द का होना
  • डायरिया बीमारी का होना
  • अनियमित उल्टी का होना
  • गले में दर्द का होना
  • हल्का बुखार का होना
  • सर में दर्द का होना
  • हल्का बुखार का होना
  • गर्दन में जकड़न का होना
  • मांसपेशियों का ढीला होना एवं विभ्भिन्न अंगो में दर्द का होना
  • थकान का होना या कमजोरी का अनुभव होना
  • चिडचिडापन होना
  • पेट का फूलना
  • शौच के समय तकलीफ होना

पोलियो होने का कारण

पोलियो एक प्रकार का जीवाणु प्रभावित समस्या है यह जीवाणु पोलियो ग्रषित मनुष्य के कफ, मल मूत्र में विद्यमान रहता है जो मखियाँ, किट पतंगों या वायु के द्वारा एक स्थान से दुसरे स्थान तक फैलता है और दूसरो को पोलियो ग्रषित करता है | यह virus 2 से 5 वर्ष तक के बच्चो को काफी प्रभावित करता है | जिस किसी को कम उम्र में टॉन्सिल या किसी प्रकार का operation हुआ है तो उस बच्चे को पोलियो होने का खतरा ज्यादा होता है |

दुष्प्रभाव (Side effect)

इस vaccine के जल्द side effect देखने को नहीं मिलते है परन्तु अगर आपको निम्न में से किसी भी प्रकार के समस्या के होने की शंका हो तो आप अपने डॉक्टर से मिले और परामर्श ले |

  • उलटी का होना
  • पेट में दर्द का होना
  • पेट ख़राब होना
  • भूख का कम लगना
  • नींद का कम आना
  • बेचैनी होना

इसके बारे में अधिक जानकारी के लिए http://polioeradication.org/polio-today/polio-prevention/the-vaccines/opv/ पर click करे |

Leave a Comment